Tuesday, September 22, 2009

यूँ ही कुछ भी

मुद्दत हुई कब से यही सोचता हूँ मैं,
है आईना बुरा, या फिर बुरा हूँ मैं.




1 comments:

संजय भास्कर said...

बहुत सुन्दर रचना । आभार

चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

SANJAY
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

Post a Comment

कुछ न कहने से भी छिन् जाता है एजाज़-ए-सुख़न,
जुल्म सहने से भी जालिम की मदद होती है.

© सर्वाधिकार सुरक्षित